पीपल देव के शनि

Peepaldev

0
1182

चलो चलें एक नए सफर
पर कहते नई कहानी एक
ना दादी ना नानी जिसमें
ना कोई रात की रानी देख

ढलता सूरज चढ़ती रातें
हर दिन ढले जवानी देख
चलो चलें एक नए सफर पर
कहते नई कहानी देख

एक बाग में रख वाले ने
पेड़ लगाए एक सौ एक
बरगद चंपा और चमेली
जामुन लीची ढेरों ढेर

गलती माली यह कर बैठा
कोने में पीपल बो आया
शुद्ध वायु की चाह में
गड़बड़ झाला वो कर आया

बड़े हुए जब पेड़ वहां के
रौनक बाग में लौट आई
नानी दादी काकी मौसी
सारी फिर से लौट आईं

बच्चे उछल कूद कर बंधू
हल्ला खूब मचाते थे
बड़े बूढ़े भी वहां टहलने
शाम और सुबह आते थे

एक रोज़ एक पंडित जी ने
शनि रवि को बतलाया
पीपल देव बचा लेंगे
एक टोटका बतलाया

रोज रवि पीपल तक जाता
दीया एक जला देता
अगरबत्ती और धूप जलाकर
माला रोज चढ़ा देता

देखा देखी बढ़े भक्त
पीपल की महिमा बढ़ निकली
सुबह शाम डोरी रोली से
पीपल की लाली जल निकली

एक भक्त ने बना चबूतरा
पीपल की साख बढ़ा दी थी
कुछ ने अपने घर की देवी
ला चुपचाप लिटा दी थीं

धीरे धीरे बाग का कोना
कचरे की ढेरी बन आया
पन्नी चुन्नी चूड़़ी नारियल
ढेर कूड़े का बढ़ आया

हमने कहा कूड़ेवाले से
जरा बुहार कोने को दो
कान पकड़ कर बोला बहना
वहाँ देव हैं सोने दो

तरह तरह की वहाँ बलायें
मैं न उनको सर लूँगा
पन्नी में मंदिर का कचरा
पाप न उनका सर लूँगा

मिट्टी की खंडित मूरत को
घर के गमले में नहलाओ
एक एक डोरी करके
पीपल को न कुम्हलाओ

शनिदेव होंगे प्रसन्न
अगर गरीब संग चल दोगे
उसकी खाली झोली में
कुछ पैसे कुछ फल दोगे

चलो बंधुओं आज चलें

पीपल का शनि हटाना है

दीप जलाओ बेशक पर

कचरा ना फैलाना है

प्रीति राघव चौहान

VIAPriti Raghav Chauhan
SOURCEPRITI RAGHAV CHAUHAN
SHARE
Previous articleजन्म दिवस पर खाना
Next articleचलो आज तितलियों का जिक्र करें कैप्शन जोड़ें
नाम:प्रीति राघव चौहान शिक्षा :एम. ए. (हिन्दी) बी. एड. एक रचनाकार सदैव अपनी कृतियों के रूप में जीवित रहता है। वह सदैव नित नूतन की खोज में रहता है। तमाम अवरोधों और संघर्षों के बावजूद ये बंजारा पूर्णतः मोक्ष की चाह में निरन्तर प्रयास रत रहता है। ऐसी ही एक रचनाकार प्रीति राघव चौहान मध्यम वर्ग से जुड़ी अनूठी रचनाकार हैं।इन्होंने फर्श से अर्श तक विभिन्न रचनायें लिखीं है ।1989 से ये लेखन कार्य में सक्रिय हैं। 2013 से इन्होंने ऑनलाइन लेखन में प्रवेश किया । अनंत यात्रा, ब्लॉग -अनंतयात्रा. कॉम, योर कोट इन व प्रीतिराघवचौहान. कॉम, व हिन्दीस्पीकिंग ट्री पर ये निरन्तर सक्रिय रहती हैं ।इनकी रचनायें चाहे वो कवितायें हों या कहानी लेख हों या विचार सभी के मन को आन्दोलित करने में समर्थ हैं ।किसी नदी की भांति इनकी सृजन क्षमता शनै:शनै: बढ़ती ही जा रही है ।

LEAVE A REPLY