सच

truth

0
1435

क्या आप भी 

सरेआम सच 

कहना चाहते हैं

ये शहर सच को

नकारता है जनाब

………….. . 

जब भी सच कहा

लोग खिलखिला के हँसे

आज के दौर में 

सच चुटकुले सा है

…… …… 

एक बेबाक़ सच पर

राह बदल लेते हैं 

वक्त कहाँ है जो चलें

तेरे सच के साथ 

…… ……..  …. 

जब से उसकी  दीवानगी

सच्चाई से हुई 

लोगों ने कहा गाफ़िल है

 बचकर निकलना बंधु

… … ………. 

VIAप्रीति राघव चौहान
SOURCEPriti raghav Chauhan
SHARE
Previous articleGuest.. Maina
Next articleअवकाश
नाम:प्रीति राघव चौहान शिक्षा :एम. ए. (हिन्दी) बी. एड. एक रचनाकार सदैव अपनी कृतियों के रूप में जीवित रहता है। वह सदैव नित नूतन की खोज में रहता है। तमाम अवरोधों और संघर्षों के बावजूद ये बंजारा पूर्णतः मोक्ष की चाह में निरन्तर प्रयास रत रहता है। ऐसी ही एक रचनाकार प्रीति राघव चौहान मध्यम वर्ग से जुड़ी अनूठी रचनाकार हैं।इन्होंने फर्श से अर्श तक विभिन्न रचनायें लिखीं है ।1989 से ये लेखन कार्य में सक्रिय हैं। 2013 से इन्होंने ऑनलाइन लेखन में प्रवेश किया । अनंत यात्रा, ब्लॉग -अनंतयात्रा. कॉम, योर कोट इन व प्रीतिराघवचौहान. कॉम, व हिन्दीस्पीकिंग ट्री पर ये निरन्तर सक्रिय रहती हैं ।इनकी रचनायें चाहे वो कवितायें हों या कहानी लेख हों या विचार सभी के मन को आन्दोलित करने में समर्थ हैं ।किसी नदी की भांति इनकी सृजन क्षमता शनै:शनै: बढ़ती ही जा रही है ।

LEAVE A REPLY