तिनका

सरस्वती खो गई

0
858

तितलियों से रंग ले

वो उड़ती पात पात पर 

मुमुस्कुराती झूमती

वो समय की बिसात पर

मुट्ठियाँ कसी हुई

हौंसले बुलंद थे 

लाल लाल अधरों

पर रौशन हजारों छंद थे

तेजस्विनी के भाल पर

सुकुमार तेज था 

रोम रोम गर्विता का

ज्ञान से लबरेज था 

जो भी उसको देखता

बस देखता ही रह गया

उसकी लिखी तान पर

साथ उसके बह गया

एक रोज़ तिनका एक

उसकी आँख में पड़ा

हृदय में लगा था शूल

आँख से उबल पड़ा

शरारतें और शोखियाँ

जो आँखों का सुरूर थीं

लहू बन ढलक रहीं वो

गुल तो बेकसूर थी

इबारतें लिखी गई

इश्तहार भी हुआ 

वो शूल सा तिनका

मगर शर्मसार न हुआ

आज उस बागीचे में हैं

बेशुमार तितलियाँ 

मगर न पीछे दौडतीं

वो नन्ही नन्ही उंगलियाँ 

जिन्दा है तेजस्विनी

जिन्दादिली खो गई 

ज्ञान गंगा थी जो कल

सरस्वती वो खो गई 

                      प्रीति राघव चौहान 

VIAPriti Raghav Chauhan
SOURCEPriti Raghav Chauhan
SHARE
Previous articleगिनती
Next articleपहली बारिश
नाम:प्रीति राघव चौहान शिक्षा :एम. ए. (हिन्दी) बी. एड. एक रचनाकार सदैव अपनी कृतियों के रूप में जीवित रहता है। वह सदैव नित नूतन की खोज में रहता है। तमाम अवरोधों और संघर्षों के बावजूद ये बंजारा पूर्णतः मोक्ष की चाह में निरन्तर प्रयास रत रहता है। ऐसी ही एक रचनाकार प्रीति राघव चौहान मध्यम वर्ग से जुड़ी अनूठी रचनाकार हैं।इन्होंने फर्श से अर्श तक विभिन्न रचनायें लिखीं है ।1989 से ये लेखन कार्य में सक्रिय हैं। 2013 से इन्होंने ऑनलाइन लेखन में प्रवेश किया । अनंत यात्रा, ब्लॉग -अनंतयात्रा. कॉम, योर कोट इन व प्रीतिराघवचौहान. कॉम, व हिन्दीस्पीकिंग ट्री पर ये निरन्तर सक्रिय रहती हैं ।इनकी रचनायें चाहे वो कवितायें हों या कहानी लेख हों या विचार सभी के मन को आन्दोलित करने में समर्थ हैं ।किसी नदी की भांति इनकी सृजन क्षमता शनै:शनै: बढ़ती ही जा रही है ।

LEAVE A REPLY