चलो आज तितलियों का जिक्र करें कैप्शन जोड़ें

5
1009

चलो आज तितलियों का ज़िक्र करें
ज़िन्दगी वो भी हुआ करती थी
सपने में टॉफी
कहानियों में जलेबी के पेड़
दिन भर उछलकूद
गुड़िया गुड्डों की बारातें
खाकर पीकर मौज मनाकर
लड़कर गुड़िया वापस लाते
खाट के नीचे बस्ते संग छिपना
निकल आना पापा के जाते
दिनभर गुल्ली डंडा कंचे
धूल भरे घर को आ जाना
हाथ पैर मुँह रगड़ के धोना
पापा के आगे खोल किताबें
सर को हिला हिला कर पढ़ना
मम्मी पापा के जाते ही
उछल उछल करखाट तोड़ना
आस पड़ोस में मम्मी पापा
टीचर जी को जम के कोसना
खुश होकर देना उनका टॉफी
चाय कटोरी भरकर देना
कितने बुद्धू हुआ करते थे
चीनी भी चोरी करते थे
माँ रिक्शे के पैसे बचाती
उठा ऐश हम किया करते थे
रिश्तेदारों केआते ही
बांछे ऐसे खिल जाती थी
केले और पेठे को देख
मन की कलियाँ खिल जाती थी
आज न जाओ अभी न जाओ
करते थे मनुहार यही
देवदूत साक्षात पधारे
रुकते क्यों न दिन चार यहीं
मन में लड्डू फूटा करते
रुकते ही मौसी मामा जी
मनमानी की मिली इजाजत
दिन रात हंगामा जी
वो दो रुपये विदाई वाले
दो लाख पर भारी थे
टॉफी, सायकिल, कॉमिक्स, आईसक्रीम
चार दिनों तक जारी थे
रेत के महल बनाना
बिठा कर रखना उनमें कान्हा जी
बर्थे डे चाहे जिसका हो
जमकर करना हंगामा जी
रामलीला में खाट बिछा कर
जगह रोकना सबसे आगे
एक दुशाले में ही छिपकर
सोते रहना जागे जागे
बस्ते में ढक्कन गुड़िया
पंख किताबों में रखते थे
तितली के पीछे दौड़ लगाकर
हम कितने सपने बुनते थे
प्रीति राघव चौहान

SHARE
Previous articleपीपल देव के शनि
Next articleटॉफ़ी नहीं कॉपी दो
नाम:प्रीति राघव चौहान शिक्षा :एम. ए. (हिन्दी) बी. एड. प्रीति राघव चौहान मध्यम वर्ग से जुड़ी अनूठी रचनाकार हैं।इन्होंने फर्श से अर्श तक विभिन्न रचनायें लिखीं है ।1989 से ये लेखन कार्य में सक्रिय हैं। 2013 से इन्होंने ऑनलाइन लेखन में प्रवेश किया । अनंत यात्रा, ब्लॉग -अनंतयात्रा. कॉम, योर कोट इन व प्रीतिराघवचौहान. कॉम, व हिन्दीस्पीकिंग ट्री पर ये निरन्तर सक्रिय रहती हैं ।इनकी रचनायें चाहे वो कवितायें हों या कहानी लेख हों या विचार सभी के मन को आन्दोलित करने में समर्थ हैं ।किसी नदी की भांति इनकी सृजन क्षमता शनै:शनै: बढ़ती ही जा रही है ।

5 COMMENTS

LEAVE A REPLY