Ajaadi

jaagori

0
939

आजादी

 

नादान है वह

 नहीं जानती आजादी 

आजादी के मायने 

अभी उसके डैने छोटे हैं 

उसकी उड़ान 

हवाओं का रुख नहीं पहचानती 

उसे नहीं पता युद्ध और पाकिस्तान में अंतर 

क्या जरूरी है कि पता हो 

बच्चों को… 

 तितलियाँ /फूल /बार्बी

/ सॉरी /थैंक्स /

ऑल इस वैल से परे का सच! 

 

हमने सिखाई अहिंसा 

 ईद दीवाली गुरूपर्व पर समभाव

सिखाया भेदभाव से रहना दूर 

बस नहीं सिखा पाए तो यह 

कि तुम एक लड़की हो 

तुम्हारे हर बात के 

मतलब निकाले जाएंगे 

अच्छा होता यदि हम सिखा पाते 

बचपन में ही जाति ..धर्म.. भेदभाव .।

सिखा पाते कि पड़ोसी से 

हमारे रिश्ते क्या हैं 

कहां क्या कहना है??? क्या नहीं !!!

अब पछताए होत क्या

 कुछ बातें बचपन में ही सिखाई जाती है

हमने सिखाई क्षमा…

अब कैसे सिखायें देश की सीमा 

के भीतर है भारत

जबकि वो सीख चुकी 

दुनिया एक है!!!!!!

                         

VIApriti
SOURCEप्रीति राघव चौहान
SHARE
Previous articleपहाड़ ने कहा जरा रुको
Next articleAhankar
नाम:प्रीति राघव चौहान शिक्षा :एम. ए. (हिन्दी) बी. एड. एक रचनाकार सदैव अपनी कृतियों के रूप में जीवित रहता है। वह सदैव नित नूतन की खोज में रहता है। तमाम अवरोधों और संघर्षों के बावजूद ये बंजारा पूर्णतः मोक्ष की चाह में निरन्तर प्रयास रत रहता है। ऐसी ही एक रचनाकार प्रीति राघव चौहान मध्यम वर्ग से जुड़ी अनूठी रचनाकार हैं।इन्होंने फर्श से अर्श तक विभिन्न रचनायें लिखीं है ।1989 से ये लेखन कार्य में सक्रिय हैं। 2013 से इन्होंने ऑनलाइन लेखन में प्रवेश किया । अनंत यात्रा, ब्लॉग -अनंतयात्रा. कॉम, योर कोट इन व प्रीतिराघवचौहान. कॉम, व हिन्दीस्पीकिंग ट्री पर ये निरन्तर सक्रिय रहती हैं ।इनकी रचनायें चाहे वो कवितायें हों या कहानी लेख हों या विचार सभी के मन को आन्दोलित करने में समर्थ हैं ।किसी नदी की भांति इनकी सृजन क्षमता शनै:शनै: बढ़ती ही जा रही है ।

LEAVE A REPLY