Saturday, October 23, 2021
Tags Pritiraghavchauhan.comनई कविता

Tag: pritiraghavchauhan.comनई कविता

कब तृण हारा तू बोल जरा

खाली झंझावातों से अंधियारी काली रातों से अंबर डोले बेशक डोले कब तृण हारा तू बोल जरा कदम ताल के तले सही ओस भाल से ढले सही फूट पड़ा चट्टानों...
- Advertisement -

MOST POPULAR

HOT NEWS