Tuesday, July 2, 2024
Tags Https://pritiraghavchauhan.com/balkavita

Tag: https://pritiraghavchauhan.com/balkavita

मैंने देखा एक पहाड़ कटा-कटा

मैंने देखा  एक बड़ा सा पहाड़ कटा- कटा केक जैसा मैंने देखा पहाड़ पर झरना रुका- रुका घर के नल जैसा मैंने देखी नदी स्कूल के आगे बने नाले जैसी मैंने देखा समुन्दर गाँव के...

कदम गिनो भाई कदम गिनो

                   कदम गिनो भाई कदम गिनो कदम गिनो भाई कदम गिनो  आगे बढ़ते कदम गिनो  विद्यालय है कितनी दूर  चलो...

Turn to Home

 घर वापसी नहीं कठिन है घर तो बच्चों घर होता है आंखें खोलो बांछेंं खोलो ऊँचा तुमसे सर होता है चाहे जितने मेले घूमो मेला...
- Advertisement -

MOST POPULAR

HOT NEWS