लोगों को कहने दो

लोगों के कहने से कपड़े नहीं बदले जाते

0
1806

आप हँसना चाहते हैं

जोर से चिल्लाना चाहते हैं

चाहते हैं सड़क किनारे खाना कुलचे

चाहते हैं सिस्टम पर लगाना पंच

दिन भर की भगदौड़ से परे

चाहते हैं प्रकृति का मंच

गाना चाहते हैं बेसुरी आवाज में गीत

पाना चाहते हैं कटोरे से मोहक संगीत

परिंदों संग छानना चाहते हैं आसमान 

लाना चाहते हैं हर चेहरे पर मुस्कान 

बच्चों संग चाहते होना बच्चा

बूढ़ों संग चलना बन श्रवण सच्चा

तो चलिये बेजान घरौंदों में जान डालें

लोगों के कहने से कपड़े नहीं  बदले जाते

VIAPriti Raghav Chauhan
SOURCEप्रीति राघव चौहान
SHARE
Previous articleलौट आओ
Next articleमाँ की कोख
नाम:प्रीति राघव चौहान शिक्षा :एम. ए. (हिन्दी) बी. एड. एक रचनाकार सदैव अपनी कृतियों के रूप में जीवित रहता है। वह सदैव नित नूतन की खोज में रहता है। तमाम अवरोधों और संघर्षों के बावजूद ये बंजारा पूर्णतः मोक्ष की चाह में निरन्तर प्रयास रत रहता है। ऐसी ही एक रचनाकार प्रीति राघव चौहान मध्यम वर्ग से जुड़ी अनूठी रचनाकार हैं।इन्होंने फर्श से अर्श तक विभिन्न रचनायें लिखीं है ।1989 से ये लेखन कार्य में सक्रिय हैं। 2013 से इन्होंने ऑनलाइन लेखन में प्रवेश किया । अनंत यात्रा, ब्लॉग -अनंतयात्रा. कॉम, योर कोट इन व प्रीतिराघवचौहान. कॉम, व हिन्दीस्पीकिंग ट्री पर ये निरन्तर सक्रिय रहती हैं ।इनकी रचनायें चाहे वो कवितायें हों या कहानी लेख हों या विचार सभी के मन को आन्दोलित करने में समर्थ हैं ।किसी नदी की भांति इनकी सृजन क्षमता शनै:शनै: बढ़ती ही जा रही है ।

LEAVE A REPLY