मन के पथ पर दौड़ रहे 

जितने गहन विचार 

उतना ही छाया रहे 

अन्तरघट अंधियार 

जितना निर्मल चित्त ले 

तू आया हरि के द्वार 

उतना ही रोशन दिखे 

ये सारा संसार 

प्रेरक विचार
मन का पथ
VIAPritiRaghavChauhan
SOURCEप्रीति राघव चौहान
SHARE
Previous articleआज का विचार
Next articleसजग भारत स्वस्थ भारत
नाम:प्रीति राघव चौहान शिक्षा :एम. ए. (हिन्दी) बी. एड. प्रीति राघव चौहान मध्यम वर्ग से जुड़ी अनूठी रचनाकार हैं।इन्होंने फर्श से अर्श तक विभिन्न रचनायें लिखीं है ।1989 से ये लेखन कार्य में सक्रिय हैं। 2013 से इन्होंने ऑनलाइन लेखन में प्रवेश किया । अनंत यात्रा, ब्लॉग -अनंतयात्रा. कॉम, योर कोट इन व प्रीतिराघवचौहान. कॉम, व हिन्दीस्पीकिंग ट्री पर ये निरन्तर सक्रिय रहती हैं ।इनकी रचनायें चाहे वो कवितायें हों या कहानी लेख हों या विचार सभी के मन को आन्दोलित करने में समर्थ हैं ।किसी नदी की भांति इनकी सृजन क्षमता शनै:शनै: बढ़ती ही जा रही है ।

LEAVE A REPLY