Thursday, May 23, 2024
Tags Pritiraghavchauhan.com /new kavita

Tag: pritiraghavchauhan.com /new kavita

इस काल का वरण करें /IndianCricketTeam

इसकाल का वरण करें  जीत के आकाश से विजय कुसुम नहीं तो क्या  क्षण वो शंखनाद के  बना नहीं सके तो क्या  निशीथ के अंधेरों में  नव किरण नहीं तो...

मनाली…

पुकारता है व्यास का  वो किनारा बार बार आँखों में तैरते हैं वो उनींदे देवदार खर्शू पर काई सा छोड़ कर आया हूँ मन...

अशुभ बीठ

देव देव - कारकून ने फैंकी बीठ हरि-जन ने लपकी अशुद्ध हुई 5100 जुर्माना स्वाधीन देश जड़ जनता मूढ़ प्रदेश अरे कारकूनो! कोकून से निकलो बीठ और पीठ से दल बनेंगे देश नहीं दल से...

महानगरीय आदमी

उल्लू सा जागता  अंधाधुंध भागता  आगे पीछे विकराल मुँह वाला ये आदमी  महानगरी का बाशिंदा है  खासियत ये है कि  हर हाल में जिंदा है 

वो चिड़िया

अब वो चिड़िया नहीं आती जो आती थी कल तलक शीशे के दर पर जो पटकती थी सर आइने से घर पर अब वो चिड़िया नहीं आती उसे अहसास है...

मंदिर मंदिर पंडे बैठे

मंदिर मंदिर बैठे पंडे मंदिर बाहर बैठे वृद्ध राम ढूंढते वन वन भटके घर के ऊपर फिरते गिद्ध  खुशहाली को खुशी खा गई  सड़कों पर है बदहाली  दिल्ली से है...

मुंडकल्ली /without scarf on head

मुंडकल्ली दरवाज़ो के पीछे हँसती खिलखिलातीं हैं दहलीज़ के भीतर देखतीं हैं सपने अंतरिक्ष के घर से विद्यालय के रास्ते के सिवा नहीं देखा...

नृत्य /Dance

उसके कदम थिरकते हैं माँ वृंदावन को जाती है जैसे कबूतर मूंद कर आँखें कर रहा हो इंतजार अनहोनी टल जाने की बंद उन...

गूंगी सड़क

टूटी हुई सड़कों पर मुस्कुराते कर चलते हुए लोग स्वच्छता अभियान की धज्जियाँ उड़ाते हुए सड़कों पर कूड़े के ढेर ढेरों पर भिनभिनाती मक्खियाँ चितकबरी गायों के झुंड रेड लाइट जंप...

बोलो रानी/जीजिविषा

जीजिविषा रोज रचती है आड़ी तिरछी लकीरों से काले नीले लाल पीले सतरंगी सुनहरे पल… रास्तों की कालिख धोने को हाथ हैं मशीन भी...
- Advertisement -

MOST POPULAR

HOT NEWS