Saturday, October 23, 2021
Tags #ana ki khatir preet

Tag: #ana ki khatir preet

अना की खातिर ना कीचड़ उछालिये /ग़ज़ल

  जुदा हर जिन्दगी का फलसफा है दोस्त गैर की किस्मत का न सिक्का उछालिये             इसी मकतल में उसने सदियाँ गुजार...
- Advertisement -

MOST POPULAR

HOT NEWS