Tuesday, November 29, 2022
Tags #ana ki khatir preet

Tag: #ana ki khatir preet

अना की खातिर ना कीचड़ उछालिये /ग़ज़ल

  जुदा हर जिन्दगी का फलसफा है दोस्त गैर की किस्मत का न सिक्का उछालिये             इसी मकतल में उसने सदियाँ गुजार...
- Advertisement -

MOST POPULAR

FOG ON THE MARS

सीढ़ी

Let us grow Clouds

मनाली…

HOT NEWS