Saturday, October 23, 2021

JustChill

When all things go wrong  and everything makes you still then please don't cry just stay  and chill Just Chill Just Chill when clouds are more a lots of  thunders...

Anger Management..

क्रोध किसी क्रिया की प्रतिक्रिया मात्र होता है। सामने खड़ी विपरीत परिस्थितियों की दीवार पर अपने क्रोध की जोर आजमाइश करने से बेहतर है...
सजग भारत स्वस्थ भारत

सजग भारत स्वस्थ भारत

जवान सीमा का प्रहरी है, और सजग भारतीय देश का राष्ट्र इस समय अत्यंत कष्टकारी संकट से गुजर रहा है, हम सभी देशवासियों को मिलजुलकर...

OCD

ओ सी डी स्कूल में ऐसे ही छोटी सी बहस हो रही थी। साइंस टीचर श्याम सिंह के कथन पर सारे के सारे टीचर ठहाके...

माउंट आबू

माउंट आबू अंग्रेजी शासन काल  में बने परित्यक्त भग्नावेशों से होकर गुजरते  माउंट आबू के शांत रास्ते भारतीय वास्तु कला की बेजोड़ मिसाल दिलवाड़ा से...

कभी नफरतों के चलते

कभी नफरतों के चलते मैं हो गया किसी का कभी चाहतों ने बढ़कर बुला लिया मुझे कभी सरेराह यूं ही साथ नहीं छूटा कभी दूर जा कर राह ने रुला दिया...

तिनका

तितलियों से रंग ले वो उड़ती पात पात पर  मुमुस्कुराती झूमती वो समय की बिसात पर मुट्ठियाँ कसी हुई हौंसले बुलंद थे  लाल लाल अधरों पर रौशन...
कहे दुलारी हँसकर भैया रामलली का डिब्बा गोल

मेरे घर में कोई न कोना?

मेरे घर में कोई न कोना दीवारों की गिनती बोल तीजी मंजिल बना तिकोना छत्तीस खिड़की घन बेडौल कहे दुलारी हँसकर भैया रामलली का डिब्बा गोल जितनी नाली जितने...

WAKE UP

WAKE UP All the time on air show favorite people in the show Circumstances what you stuck Every moment with good luck Without any single cut Without any if and...
0FansLike
65,948FollowersFollow
32,600SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Featured

अलवर के शंभुनाथ
वक्त आंधी अपनी रफ़्तार से बढ़ती गई
मेरे घर में कोई न कोना प्रीति राघव चौहान

Most Popular

Latest reviews

मत रोको अब बह जाने दो

मत रोको अब बह जाने दो एक समन्दर मन के अन्दर कतरा कतरा कह जाने दो मत रोको अब बह जाने दो मन की...
मत रोको अब बह जाने दो

कागज़

वो कागज़ थे  कोरे अनधुले जज़्बात और हालात ने  गीले और नीले किये सहेजे कुछ इस कदर वक्त ने पीले किये  अनमोल लम्हे जो  शब्दों में बांधे थे दस के भाव में  रद्दी...
कागज़

आज का विचार

मन के पथ पर दौड़ रहे  जितने गहन विचार  उतना ही छाया रहे  अन्तरघट अंधियार  जितना निर्मल चित्त ले  तू आया हरि के द्वार  उतना ही रोशन दिखे  ये सारा संसार 
मन के पथ पर दौड़ रहे...

More News