Biometric attendance

Biometric attendance

0
989

बायो गैस

बायो वेस्ट

बायो टैक

और बायो डायवर्सिटी

के बाद नयी सोच

नयी उमंग के साथ

तरोताज़ा प्रयोग

बायोमैट्रिक हाजिरी

गुरुजन और अनुशासन

पर्याय एक दूजे के

अब अपनी उपस्थिति

अंगूठे से करायेंगे

अंगूठा छलनी हो

तो उंगली दिखायेंगे

आँख दिखायेंगे

एक घंटा और

नौकरी के नाम

ये बात और है

कि मशीन करे

रिजैक्ट हमारी उपस्थिति..

सर्वर नहीं तो हम नहीं

सुबह से शाम तक

डूबते चढ़ते सर्वर के संग

कितने भाव

आते और जाते हैं

एक टैबलेट

चालीस बीमार

क्या क्या करे

बेचारी सरकार

चल पड़ी खऱामा खऱामा

जापान ,अॉस्ट्रे लिया

जर्मन बनने की राह पर

VIAPriti Raghav Chauhan
SOURCEPriti Raghav Chauhan
SHARE
Previous articleआप सदा पूज्य हैं
Next articleमनु पुत्र
नाम:प्रीति राघव चौहान शिक्षा :एम. ए. (हिन्दी) बी. एड. एक रचनाकार सदैव अपनी कृतियों के रूप में जीवित रहता है। वह सदैव नित नूतन की खोज में रहता है। तमाम अवरोधों और संघर्षों के बावजूद ये बंजारा पूर्णतः मोक्ष की चाह में निरन्तर प्रयास रत रहता है। ऐसी ही एक रचनाकार प्रीति राघव चौहान मध्यम वर्ग से जुड़ी अनूठी रचनाकार हैं।इन्होंने फर्श से अर्श तक विभिन्न रचनायें लिखीं है ।1989 से ये लेखन कार्य में सक्रिय हैं। 2013 से इन्होंने ऑनलाइन लेखन में प्रवेश किया । अनंत यात्रा, ब्लॉग -अनंतयात्रा. कॉम, योर कोट इन व प्रीतिराघवचौहान. कॉम, व हिन्दीस्पीकिंग ट्री पर ये निरन्तर सक्रिय रहती हैं ।इनकी रचनायें चाहे वो कवितायें हों या कहानी लेख हों या विचार सभी के मन को आन्दोलित करने में समर्थ हैं ।किसी नदी की भांति इनकी सृजन क्षमता शनै:शनै: बढ़ती ही जा रही है ।

LEAVE A REPLY