रही होगी वजह कोई.. प्रीति

वो अपनी लाश कांधे पर उठाकर कब का निकला है..

0
903

रही होगी वजह कोई जो

उसने छोड़ दी महफिल

उसे मगरूर कहकर क्यों

भला हर पल चिढ़ाते हो

है ढाई चाल में माहिर

ना बैसाखियों पर जा

है लम्बी रेस का घोड़ा

क्यों उसको आजमाते हो

तुम्हें तो शौक है मसले

धुंए में उड़ाने का

 जो हल करता है हर मुश्किल

उसे क्योंकर रुलाते हो

वो जुगनू से सितारे देखकर

खुश है बहुत खुश है

उसे काहे को तुम अखबार के

पन्ने दिखाते हो

नहीं कहता ए मेरे दोस्त

हुआ वो सिरफिरा पैदा

ज़ुनूनी है फकत बस वो

तुम पागल बुलाते हो

वो अपनी लाश कांधे पर

उठाकर कब का निकला है

बोझ कैसा भी हो कम है

क्यों आंसू से डराते हो

        प्रीति राघव चौहान

 

VIAPriti Raghav Chauhan
SOURCEPriti Raghav Chauhan
SHARE
Previous articleबंध्या
Next articleमन रीता सा क्यों है /अजान और घंटों में जंग
नाम:प्रीति राघव चौहान शिक्षा :एम. ए. (हिन्दी) बी. एड. प्रीति राघव चौहान मध्यम वर्ग से जुड़ी अनूठी रचनाकार हैं।इन्होंने फर्श से अर्श तक विभिन्न रचनायें लिखीं है ।1989 से ये लेखन कार्य में सक्रिय हैं। 2013 से इन्होंने ऑनलाइन लेखन में प्रवेश किया । अनंत यात्रा, ब्लॉग -अनंतयात्रा. कॉम, योर कोट इन व प्रीतिराघवचौहान. कॉम, व हिन्दीस्पीकिंग ट्री पर ये निरन्तर सक्रिय रहती हैं ।इनकी रचनायें चाहे वो कवितायें हों या कहानी लेख हों या विचार सभी के मन को आन्दोलित करने में समर्थ हैं ।किसी नदी की भांति इनकी सृजन क्षमता शनै:शनै: बढ़ती ही जा रही है ।

LEAVE A REPLY