माँ मैं आ गई

Decent Daughter

0
832

लो माँ  वक्त से पहले ही

चली आई मैं

पर भाई की तरह

ना छकाया

ना रुलाया

ना सताया

ना साज

ना आवाज़

ना ढोल ताशे

  1. ना बनी सबकी सरताज

जो भी आता है

रंग रूप देखता है

मेरी भाग्य रेख व

गणमूल देखता है

माँ कहती नहीं क्यों इनसे

ये रंग और रूप

विरासत में पायें हैं

कामनाओं के सबकी

प्रतिफल पायें हैं

तिस पर भी देख

तुझसे ही दूर हूँ

दो घड़ी चैन दूँ

पर मैं मजबूर हूँ

माँ लो 

वक्त से पहले ही

चली आई मैं….

VIAPriti Raghav Chauhan
SOURCEPriti Raghav Chauhan
SHARE
Previous articleसंजय तुम कहाँ हो
Next articleकुछ अशआर.. ए..दिल
नाम:प्रीति राघव चौहान शिक्षा :एम. ए. (हिन्दी) बी. एड. प्रीति राघव चौहान मध्यम वर्ग से जुड़ी अनूठी रचनाकार हैं।इन्होंने फर्श से अर्श तक विभिन्न रचनायें लिखीं है ।1989 से ये लेखन कार्य में सक्रिय हैं। 2013 से इन्होंने ऑनलाइन लेखन में प्रवेश किया । अनंत यात्रा, ब्लॉग -अनंतयात्रा. कॉम, योर कोट इन व प्रीतिराघवचौहान. कॉम, व हिन्दीस्पीकिंग ट्री पर ये निरन्तर सक्रिय रहती हैं ।इनकी रचनायें चाहे वो कवितायें हों या कहानी लेख हों या विचार सभी के मन को आन्दोलित करने में समर्थ हैं ।किसी नदी की भांति इनकी सृजन क्षमता शनै:शनै: बढ़ती ही जा रही है ।

LEAVE A REPLY