भिखारी

0
619

घर से था निकला

मौजे जुनूँ में

किस हाल में है

चलो ये भुला दें

हाथों में देकर उसके किताबें

उसे विद्यालय में

दाखिल करा दें

कुछ रोज बच्चे सा

उसको भी छोड़ें

फिर पाठशाला का

रास्ता दिखा दें

बच्चा ही है वो

क्या चाहेगा तुमसे

जीने का उसको

सलीका सिखा दें

तुम्हें भी है मालूम बेबस

वो कितना

आका से इनके मोदी को मिला दें

VIAप्रीति राघव चौहान
SOURCEpritiraghavchauhan
SHARE
Previous articleBe Positive
Next articleRed light begger
नाम:प्रीति राघव चौहान शिक्षा :एम. ए. (हिन्दी) बी. एड. प्रीति राघव चौहान मध्यम वर्ग से जुड़ी अनूठी रचनाकार हैं।इन्होंने फर्श से अर्श तक विभिन्न रचनायें लिखीं है ।1989 से ये लेखन कार्य में सक्रिय हैं। 2013 से इन्होंने ऑनलाइन लेखन में प्रवेश किया । अनंत यात्रा, ब्लॉग -अनंतयात्रा. कॉम, योर कोट इन व प्रीतिराघवचौहान. कॉम, व हिन्दीस्पीकिंग ट्री पर ये निरन्तर सक्रिय रहती हैं ।इनकी रचनायें चाहे वो कवितायें हों या कहानी लेख हों या विचार सभी के मन को आन्दोलित करने में समर्थ हैं ।किसी नदी की भांति इनकी सृजन क्षमता शनै:शनै: बढ़ती ही जा रही है ।

LEAVE A REPLY