दस्तक

दस्तक जीवन की

0
894

दस्तक जीवन की मजारों पर

अक्सर अनसुनी हो जाती हैं

खुशनुमा दिनों की शमा

हर रात पिघल जाती है

मुरझा जाते हैं गुल सूखती स्मृति  से

जीती जागती कुछ जोड़ने की चाह लिए

आई पदचापें वक्त को टूटे पत्तों सा रौंद  जाती हैं

दस्तक जीवन की मजारों पर

अक्सर अनसुनी को जाती है

VIAPritiraghavchauhan
SOURCEप्रीति राघव चौहान
SHARE
Previous articleकभी नफरतों के चलते
Next articleविज्ञापन
नाम:प्रीति राघव चौहान शिक्षा :एम. ए. (हिन्दी) बी. एड. एक रचनाकार सदैव अपनी कृतियों के रूप में जीवित रहता है। वह सदैव नित नूतन की खोज में रहता है। तमाम अवरोधों और संघर्षों के बावजूद ये बंजारा पूर्णतः मोक्ष की चाह में निरन्तर प्रयास रत रहता है। ऐसी ही एक रचनाकार प्रीति राघव चौहान मध्यम वर्ग से जुड़ी अनूठी रचनाकार हैं।इन्होंने फर्श से अर्श तक विभिन्न रचनायें लिखीं है ।1989 से ये लेखन कार्य में सक्रिय हैं। 2013 से इन्होंने ऑनलाइन लेखन में प्रवेश किया । अनंत यात्रा, ब्लॉग -अनंतयात्रा. कॉम, योर कोट इन व प्रीतिराघवचौहान. कॉम, व हिन्दीस्पीकिंग ट्री पर ये निरन्तर सक्रिय रहती हैं ।इनकी रचनायें चाहे वो कवितायें हों या कहानी लेख हों या विचार सभी के मन को आन्दोलित करने में समर्थ हैं ।किसी नदी की भांति इनकी सृजन क्षमता शनै:शनै: बढ़ती ही जा रही है ।

LEAVE A REPLY