ज़िन्दगी मिली तुझे… In rapping mode

IN RAPPING MODE

0
683

जिंदगी मिली तुझे

तू  जिंदगी का ले मजा

जिंदगी के नाम पर

खुद को दे ना तू सजा

जिंदगी सफर है प्यारे

हंस के या रो के जी

गुबार बन के उड़ जा या

खुशी के फूल बो के जी

 बदहवास दुनिया है

कमीनगी बचा के रख

घसीट लेगी यह कदम

कदम जरा जमा के रख

उसकी बिछी बिसात पर

प्यादा है ना ज्यादा उछल 

बिंदास आगे बढ़ता चल

 चले हैं क्यों संभल संभल

दलित तू उदित भी तू

चकित और भ्रमित ना हो

चकाचौंध है बहुत

चश्मा लगा चकित न हो

जिंदगी मिली तुझे 

तू जिंदगी जी भर के जी

हलाहल जहां का तू

घूंट घूंट भर के पी

“प्रीति राघव चौहान” 

VIApriti Raghav Chauhan
SOURCEPriti Raghav Chauhan
SHARE
Previous articleगर्मी किसे लगती है
Next articleउजड़े हुए दरीचे उनींदे से दयार
नाम:प्रीति राघव चौहान शिक्षा :एम. ए. (हिन्दी) बी. एड. एक रचनाकार सदैव अपनी कृतियों के रूप में जीवित रहता है। वह सदैव नित नूतन की खोज में रहता है। तमाम अवरोधों और संघर्षों के बावजूद ये बंजारा पूर्णतः मोक्ष की चाह में निरन्तर प्रयास रत रहता है। ऐसी ही एक रचनाकार प्रीति राघव चौहान मध्यम वर्ग से जुड़ी अनूठी रचनाकार हैं।इन्होंने फर्श से अर्श तक विभिन्न रचनायें लिखीं है ।1989 से ये लेखन कार्य में सक्रिय हैं। 2013 से इन्होंने ऑनलाइन लेखन में प्रवेश किया । अनंत यात्रा, ब्लॉग -अनंतयात्रा. कॉम, योर कोट इन व प्रीतिराघवचौहान. कॉम, व हिन्दीस्पीकिंग ट्री पर ये निरन्तर सक्रिय रहती हैं ।इनकी रचनायें चाहे वो कवितायें हों या कहानी लेख हों या विचार सभी के मन को आन्दोलित करने में समर्थ हैं ।किसी नदी की भांति इनकी सृजन क्षमता शनै:शनै: बढ़ती ही जा रही है ।

LEAVE A REPLY