जन्म दिवस पर खाना

0
727

जन्मदिन है उनका कहो क्या पकायें
ख़्याली पुलावों की प्लेटें सजाये

दिवस तीसवाँ आखिर का महीना
बातों के हम कितने लच्छे बनाये

लगा ली हैं सीढ़ी सुधाकर तक देखो
रश्मियाँ पीयूष की कहो तो पिलायें

है फांकानशी कुछ तो खाना पड़ेगा
रखीं हैं कसमें कहो तो सजायें

काटी हैं पीसी है बाँटी भी दिनभर
सजाकर रखी है कहो तो दिखायें

मन तो बहुत था बहुत कुछ बनाते
अपने हो आखिर क्या बकरा बनायें

हवा ही हवा है यहाँ से वहाँ तक
तुम भी वो खाओ हम भी वो खायें
प्रीति राघव चौहान

SHARE
Previous articleमाना के साल अभी नया नया सा है
Next articleपीपल देव के शनि
नाम:प्रीति राघव चौहान शिक्षा :एम. ए. (हिन्दी) बी. एड. प्रीति राघव चौहान मध्यम वर्ग से जुड़ी अनूठी रचनाकार हैं।इन्होंने फर्श से अर्श तक विभिन्न रचनायें लिखीं है ।1989 से ये लेखन कार्य में सक्रिय हैं। 2013 से इन्होंने ऑनलाइन लेखन में प्रवेश किया । अनंत यात्रा, ब्लॉग -अनंतयात्रा. कॉम, योर कोट इन व प्रीतिराघवचौहान. कॉम, व हिन्दीस्पीकिंग ट्री पर ये निरन्तर सक्रिय रहती हैं ।इनकी रचनायें चाहे वो कवितायें हों या कहानी लेख हों या विचार सभी के मन को आन्दोलित करने में समर्थ हैं ।किसी नदी की भांति इनकी सृजन क्षमता शनै:शनै: बढ़ती ही जा रही है ।

LEAVE A REPLY