कागज़

अनमोल लम्हे

0
743

वो कागज़ थे 

कोरे अनधुले

जज़्बात और हालात ने 

गीले और नीले किये

सहेजे कुछ इस कदर

वक्त ने पीले किये 

अनमोल लम्हे जो 

शब्दों में बांधे थे

दस के भाव में 

रद्दी संग

 ढीले  किये!! 

VIAPriti Raghav Chauhan
SOURCEPritiraghavchauhan
SHARE
Previous articleमाँ की कोख
Next articleकाग़ज़ के टुकड़े
नाम:प्रीति राघव चौहान शिक्षा :एम. ए. (हिन्दी) बी. एड. प्रीति राघव चौहान मध्यम वर्ग से जुड़ी अनूठी रचनाकार हैं।इन्होंने फर्श से अर्श तक विभिन्न रचनायें लिखीं है ।1989 से ये लेखन कार्य में सक्रिय हैं। 2013 से इन्होंने ऑनलाइन लेखन में प्रवेश किया । अनंत यात्रा, ब्लॉग -अनंतयात्रा. कॉम, योर कोट इन व प्रीतिराघवचौहान. कॉम, व हिन्दीस्पीकिंग ट्री पर ये निरन्तर सक्रिय रहती हैं ।इनकी रचनायें चाहे वो कवितायें हों या कहानी लेख हों या विचार सभी के मन को आन्दोलित करने में समर्थ हैं ।किसी नदी की भांति इनकी सृजन क्षमता शनै:शनै: बढ़ती ही जा रही है ।

LEAVE A REPLY