आज शांत बहुत शांत है मन

नई कविता

0
2647

शांत बहुत शांत है मन आज

अगले कुछ रोज मैं और मेरी

लेखनी होगी

रचेंगे किस्से…..

परियों के ना सही

कासिद की बातें

सक्षम के सफर में

अम्मा का इंतजार

कानून की नजर में

पापा से बहस

माँ से सहानुभूति

एक अलमारी से मुलाकात

छुटकी से मन की बात

बहुत सारे गीत रचना प्रीत

अगले कुछ रोज मैं और मेरी

लेखनी होगी

रचेंगे किस्से .. प्रीति राघव चौहान

VIAPriti Raghav Chauhan
SOURCEPriti Raghav Chauhan
SHARE
Previous articleदेश भक्ति गीत /ए भगतसिंह तेरी फिर आज जरूरत है
Next articleआजादी क्या मिली वो स्वच्छंद हो गये
नाम:प्रीति राघव चौहान शिक्षा :एम. ए. (हिन्दी) बी. एड. प्रीति राघव चौहान मध्यम वर्ग से जुड़ी अनूठी रचनाकार हैं।इन्होंने फर्श से अर्श तक विभिन्न रचनायें लिखीं है ।1989 से ये लेखन कार्य में सक्रिय हैं। 2013 से इन्होंने ऑनलाइन लेखन में प्रवेश किया । अनंत यात्रा, ब्लॉग -अनंतयात्रा. कॉम, योर कोट इन व प्रीतिराघवचौहान. कॉम, व हिन्दीस्पीकिंग ट्री पर ये निरन्तर सक्रिय रहती हैं ।इनकी रचनायें चाहे वो कवितायें हों या कहानी लेख हों या विचार सभी के मन को आन्दोलित करने में समर्थ हैं ।किसी नदी की भांति इनकी सृजन क्षमता शनै:शनै: बढ़ती ही जा रही है ।

LEAVE A REPLY